बड़ी खबरें

भर्तृहरि महताब बने प्रोटेम स्पीकर, राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ 20 घंटे पहले नीट विवाद में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, दोषियों पर मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग 20 घंटे पहले लखनऊ में UPSRTC मुख्यालय के बाहर मृतक आश्रितों का नौकरी की मांग पर धरना, 'नियुक्ति दो या जहर दे दो' का लिखा स्लोगन 20 घंटे पहले लखनऊ में 33 विभूतियों समेत 66 मेधावी सम्मानित, क्षत्रिय लोक सेवक परिवार ने हल्दीघाटी मनाया विजयोत्सव 20 घंटे पहले वर्ल्ड चैंपियन इंग्लैंड ने टी-20 वर्ल्ड कप में सबसे पहले सेमीफाइनल में बनाई जगह, अमेरिका को एकतरफा मुकाबले में 10 विकेट से हराया 20 घंटे पहले संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट (SGPGI) लखनऊ में 419 वैकेंसी, 25 जून 2024 है लास्ट डेट, 40 वर्ष तक के उम्मीदवारों को मिलेगा मौका 20 घंटे पहले हरियाणा लोक सेवा आयोग (HPSC) ने मेडिकल ऑफिसर के 805 पदों पर निकाली भर्ती, 12 जुलाई 2024 है आवेदन करने की लास्ट डेट 20 घंटे पहले CBSE ने रीजनल डायरेक्टर सहित अन्य पदों पर निकाली भर्ती, एज लिमिट 56 वर्ष, सैलरी 65 हजार से ज्यादा 20 घंटे पहले मोदी ने सांसद पद की ली शपथ, 18वीं लोकसभा का पहला संसद सत्र शुरू 19 घंटे पहले सुप्रीम कोर्ट का केजरीवाल को तत्काल राहत देने से इनकार, 26 जून को होगी अगली सुनवाई 17 घंटे पहले

उत्तर प्रदेश की (प्रस्तावित) नहरें- भाग 3

आज का यह लेख उत्तर प्रदेश की कुछ प्रस्तावित नहरों के बारे में जानकारी पर चर्चा करने के लिए है। इनमे से कुछ पर कार्य चालू है और कुछ सिर्फ कागजों पर प्रस्तावित हैं। 

राजघाट नहर
इस कड़ी में सबसे पहला नाम आता है- राजघाट नहर। राजघाट नहर उत्तरप्रदेश और मध्यप्रदेश की संयुक्त परियोजना है। राजघाट बांध बेतवा नदी पर ललितपुर जिले में प्रस्तावित है। इस नहर के बन जाने से बुंदेलखंड क्षेत्र को लाभ मिलने की उम्मीद है जो भयंकर पानी की कमी से जूझता है।

सरयू घाघरा नहर
इसी तरह एक और प्रस्तावित योजना है- सरयू घाघरा नहर। इस परियोजना में बहराइच, गोंडा, बलरामपुर, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, संतकबीरनगर, बस्ती और गोरखपुर जिलों को लाभ मिलेगा। इस परियोजना के अंतर्गत घाघरा नदी पर एक नहर निर्मित कर ली गई है तथा सरयू और राप्ती से नहरों का निर्माण प्रस्तावित है।

मध्य गंगा नहर
इसी कड़ी में अगला नाम आता है-मध्य गंगा नहर। इस नहर को बिजनौर के पास से गंगा बैराज से निकाला गया है और इसका निर्माण कार्य 2007 में शुरू हुआ था। इस नहर से मुरादाबाद संभल अमरोहा और बदायूं जिलों को लाभ होगा।

कन्हार नहर परियोजना 
इसी तरह मिर्जापुर क्षेत्र में कन्हार नहर परियोजना भी प्रस्तावित है जिसका निर्माण कन्हार नदी पर किया जाना है। इस परियोजना के पूरा होने पर सोनभद्र जिले के 100 से भी ज्यादा गांवों को लाभ मिलेगा।

अर्जुन सहायक परियोजना
इसी तरह उत्तर प्रदेश में अर्जुन सहायक परियोजना बदायूं नहर परियोजना जैसे और कई छोटी छोटी परियोजनाएं प्रस्तावित है। जिनके निर्माण से प्रदेश में सिंचाई की सुविधाओं में बढ़ोत्तरी होगी और किसानों को इसका लाभ मिलेगा।

 

अन्य ख़बरें