बड़ी खबरें

उत्तर प्रदेश के 18 बड़े शहरों में शुरू होंगे स्ट्रीट फूड हब-साप्ताहिक हाट, 15 लाख दुकानदारों को फायदा 18 घंटे पहले चमक उठेंगे यूपी के हाइवे, 40 हजार करोड़ से बनेंगी दो हजार नई सड़कें, गांवों पर फोकस 18 घंटे पहले उत्तर प्रदेश में दो साल में प्राकृतिक खेती से जुड़ेंगे 50 हजार किसान, सभी जिलों में शुरू होगी किसान रजिस्ट्री 18 घंटे पहले रेलवे में 7951 पदों पर भर्ती का नोटिफिकेशन जारी, 30 जुलाई से शुरू होंगे आवेदन, 44 हजार से ज्यादा मिलेगी सैलरी 18 घंटे पहले CDAC में प्रोजेक्ट इंजीनियर सहित 135 पदों पर निकली भर्ती, एज लिमिट 50 साल, सैलरी 14 लाख तक 18 घंटे पहले ITBP ने कॉन्स्टेबल के पदों पर निकाली भर्ती, 10वीं पास को मौका, 69 हजार से ज्यादा मिलेगा वेतन 18 घंटे पहले काठमांडू के त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर क्रैश हुआ विमान, प्लेन में सवार 19 में से 18 की मौत 17 घंटे पहले 'बजट में विपक्ष शासित राज्यों के साथ हुआ भेदभाव', INDIA ब्लॉक के सांसदों का विरोध प्रदर्शन 17 घंटे पहले

नए संसद भवन की शोभा बढ़ाएगी भदोही की कालीनें

Blog Image

देश के नए संसद भवन का 28 मई को उद्घाटन होना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस भवन का उद्घाटन करेंगे। इस खूबसूरत बिल्डिंग को लेकर देश में सियासत तो हो ही रही है। लेकिन इसी बिच एक खबर आई है कि नए संसद भवन की खूबसूरती को बढ़ाने के लिए मिर्जापुर-भदोही की कालीनें लगाई गई है। बावन में सिर्फ हस्तनिर्मित उच्च क्वालिटी की कालीन को ही बिछाया गया है। भदोही की एक कालीन बनाने वाली कंपनी ने इस टेंडर को लेकर सेंट्रल विस्टा में लगभग 5000 स्क्वायर यार्ड से अधिक एरिया कवर किया है। आपको बता दें कि भदोही-मिर्जापुर की कालीनें विश्व प्रसिद्ध मानी जाती है। 

हाल ही टीईई सूची में किया था शामिल

आपको बता दें कि हाल ही में मिर्जापुर-भदोही के हाथ से बुनी जाने वाली कालीन को टीईई की सूची में शामिल किया गया था। मिर्जापुर की हाथ से बुनी जाने वाली कालीन व दरी की काफी डिमांड है। टीईई की सूची में इन उत्पादों के शामिल होने से इनकी विश्वनीयता बढ़ने के साथ -साथ विश्व स्तर पर इसको बढ़ावा मिल रहा है।

 टीईई क्या होता है ?

इसका पूरा नाम टाउन ऑफ एक्सपोर्ट एक्सिलेंस है। विदेश व्यापार नीति के तहत विभिन्न शहरों के उत्पादों को इसमें शामिल किया जाता है। यह ऐसा समूह है जो उत्पाद को निर्यात के आधार पर मान्यता देता है। आद्योगिक समूहों की छमता का अधिक उपयोग करने और उसके विकास के लिए ये मान्यता दी जाती है। 39 शहरों की सूची में मिर्जापुर जिले की हस्तनिर्मित कालीन और दरी को शामिल किए जाने से अब इसको नई पहचान मिलने वाली है। टीईई सूची में शामिल किए जाने के बाद सरकार के तरफ से उद्योग को बढ़ावा देने के लिये सहायता दी जाती है। सरकार उद्योग को प्राथमिकता के आधार पर बाजार उपलब्ध कराने, निर्माण व औद्योगिक सेवाओं के लिये निर्यात प्रोत्साहन परियोजनाओं के लिये वित्तीय सहायता की व्यवस्था करती है। यही नहीं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली व्यापार प्रदर्शनियों एवं मेले में भाग लेने के लिए मदद करने के साथ वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।

मिल चुका है जीआई टैग 

उत्तर प्रदेश का भदोही-मिर्ज़ापुर क्षेत्र भारत में और भारत के बाहर भी कालीन के लिए प्रसिद्ध है। यहां निर्मित कालीन मुख्य रूप से निर्यात आधारित हैं। भारत में कालीन का उत्‍पादन मुगल काल में पनपा और आज इसे आकर्षक तरीके से विकसित किया जा रहा है। मिर्ज़ापुर के कालीन बनाने की पूरी प्रक्रिया है। सबसे पहले इसकी डिज़ाइनिंग होती है। उसके बाद इसकी रंगाई,बुनाई और धुलाई के बाद इसकी पैकेजिंग की जाती है। आपकी जानकारी के लिए बता दें की मिर्जापुर दरी को जीआई का टैग मिला हुआ है। मिर्जापुर के मशहूर इस कालीन को साल 2020 में जर्मनी में सबसे बड़े कालीन मेले में प्रदर्शित किया गया था। अब टाउन ऑफ एक्सपोर्ट एक्सिलेंस में शामिल होने से इस कालीन को वैश्विक स्तर पर सशक्त पहचान मिल सकेगी।

अन्य ख़बरें

संबंधित खबरें