बड़ी खबरें

दिल्ली में पीएम मोदी की चुनावी रैली में पहुंचे सिंगापुर के उच्चायुक्त, भगवा गमछा डाल कर पोस्ट की तस्वीर 19 घंटे पहले स्वाती मालीवाल केस में विभव कुमार को तीस हजारी कोर्ट ने 5 दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा 19 घंटे पहले IPL 2024 का गणित, CSK बाहर, RCB प्लेऑफ में पहुंची, आज RR-SRH में से कोई एक टॉप-2 में करेगा फिनिश 19 घंटे पहले यूपी में पहली बार चुनाव में कोई बाहुबली नहीं, कभी एक साथ थे 16 विधायक-सांसद 19 घंटे पहले AI और साइबर सिक्योरिटी से कर सकेंगे पार्ट टाइम M.Tech, लखनऊ विश्वविद्यालय में अब 5 विषयों में पार्ट टाइम M.Tech की सुविधा 19 घंटे पहले पांच साल में लखनऊ आज सबसे गर्म, 45 डिग्री अधिकतम तापमान, अभी चलती रहेगी हीटवेव 19 घंटे पहले एम्स (AIIMS) रायपुर में सीनियर रेजिडेंट के पदों पर निकली भर्ती, एज लिमिट 45 वर्ष, 65 हजार से ज्यादा मिलेगी सैलरी 19 घंटे पहले रेलवे में ऑफिसर के पदों पर निकली भर्ती, एज लिमिट 37 वर्ष, सैलरी 2 लाख से ज्यादा 19 घंटे पहले यूपी के 14 लोकसभा क्षेत्रों में कल सार्वजनिक अवकाश की घोषणा, उल्लंघन के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई 17 घंटे पहले प्रयागराज में राहुल और अखिलेश की सभा में मची भगदड़, कार्यकर्ता बैरिकेडिंग तोड़कर घुसे अंदर 16 घंटे पहले प्रतापगढ़ में सीएम योगी की जनसभा, कहा- सपा और कांग्रेस लगाना चाहती है औरंगजेब का जजिया कर 15 घंटे पहले

यूपी के मेरठ में ही क्यों खुली स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी ?

Blog Image

बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मेरठ के सरधना में विश्व स्तरीय स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी की आधारशिला रखी है। इस स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी की खासियत यह होगी कि वह उत्तर प्रदेश का पहला खेल विश्वविद्यालय होगा। यूनिवर्सिटी का नामकरण हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के नाम पर रहेगा। इसकी शुरुआत से उत्तरप्रदेश के खेल जगत को एक बड़ी सौगात मिलेगी।

आपके दिमाग में ये सवाल जरूर होगा की इस यूनिवर्सिटी के लिए मेरठ ही क्यों चुना गया। दरअसल मेरठ मेजर ध्यानचंद की कर्मस्थली है। हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद मेरठ में आठ साल रहे। सेना में पंजाब रेजिमेंट की टीम की ओर से हॉकी खेलने वाले मेजर ध्यानचंद ने जापान के खिलाफ पांच गोल दागकर मेरठ की टीम को यादगार पल दिए. साथ ही मेरठ स्पोर्ट्स का हब भी है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मेरठ में बनने वाले मेजर ध्यानचंद खेल विश्वविद्यालय को बनाने में नागर शैली का प्रयोग किया गया है। ‘नागर’ शब्द नगर से बना है। सर्वप्रथम नगर में निर्माण होने के कारण इसे नागर शैली कहा जाता है। इसे 8वीं से 13वीं शताब्दी के बीच उत्तर भारत में मौजूद शासक वंशों ने पर्याप्त संरक्षण दिया। नागर शैली उत्तरी भारत की प्राचीन शैली है जो हिमालय से विंध्या प्रदेश के भू-भाग में फैली हुई थी उत्तर और पूर्वी भारत में सुंदर आकर्षक मंदिरों का निर्माण नागर शैली के अनुसार ही किया गया था नागर शैली में अधिकांश मंदिरों की छत सर्पिल होती है और इन सर्पिल छतों को शिखर कहा जाता है। इस विश्वविद्यालय को बनने में नागर शैली का इस्तेमाल क्यों किया गया ये हम आपको आगे बताने वाले हैं।

अन्य ख़बरें

संबंधित खबरें