बड़ी खबरें

भर्तृहरि महताब बने प्रोटेम स्पीकर, राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ 20 घंटे पहले नीट विवाद में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, दोषियों पर मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग 20 घंटे पहले लखनऊ में UPSRTC मुख्यालय के बाहर मृतक आश्रितों का नौकरी की मांग पर धरना, 'नियुक्ति दो या जहर दे दो' का लिखा स्लोगन 20 घंटे पहले लखनऊ में 33 विभूतियों समेत 66 मेधावी सम्मानित, क्षत्रिय लोक सेवक परिवार ने हल्दीघाटी मनाया विजयोत्सव 20 घंटे पहले वर्ल्ड चैंपियन इंग्लैंड ने टी-20 वर्ल्ड कप में सबसे पहले सेमीफाइनल में बनाई जगह, अमेरिका को एकतरफा मुकाबले में 10 विकेट से हराया 20 घंटे पहले संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट (SGPGI) लखनऊ में 419 वैकेंसी, 25 जून 2024 है लास्ट डेट, 40 वर्ष तक के उम्मीदवारों को मिलेगा मौका 20 घंटे पहले हरियाणा लोक सेवा आयोग (HPSC) ने मेडिकल ऑफिसर के 805 पदों पर निकाली भर्ती, 12 जुलाई 2024 है आवेदन करने की लास्ट डेट 20 घंटे पहले CBSE ने रीजनल डायरेक्टर सहित अन्य पदों पर निकाली भर्ती, एज लिमिट 56 वर्ष, सैलरी 65 हजार से ज्यादा 20 घंटे पहले मोदी ने सांसद पद की ली शपथ, 18वीं लोकसभा का पहला संसद सत्र शुरू 19 घंटे पहले सुप्रीम कोर्ट का केजरीवाल को तत्काल राहत देने से इनकार, 26 जून को होगी अगली सुनवाई 17 घंटे पहले

सूर्य की तपिश का होगा पॉजिटिव इस्तेमाल, यूपी में बनेगा पानी पर तैरने वाला सोलर प्लांट

Blog Image

ऊर्जा हमारे लिए किसी न किसी प्रकार से फायदा पहुंचाती है। ऊर्जा का सही इस्तेमाल करके हम उससे लाभान्वित होते हैं और पर्यावरण को भी सुरक्षित रख सकते हैं। इसीलिए सूर्य की तपिश को अब पॉजिटिव तरीके से इस्तेमाल करके बुंदेलखंड के तीन बांधों पर सोलर पैनल लगाए जाएंगे ये सोलर पैनल बिजली पैदा करेंगे। अभी तक सारे सोलर प्लांट जमीन पर लगे हैं। इनके लिए जमीन की काफी आवश्यकता होती है। ऐसे में अब बड़े बांधों पर तैरते सोलर पैनल लगाने का प्रस्ताव बनाया गया है।

कुल 160 मेगावाट बिजली का उत्पादन

उत्तर प्रदेश नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा विकास अभिकरण (यूपीनेडा) द्वारा इन बांधों का सर्वे  किया जा रहा है। सिंचाई विभाग के मुताबिक तीनों बांधों से कुल 160 मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जाएगा। बुंदेलखंड में सौर ऊर्जा को बढ़ावा दिया जा रहा है। इसके लिए गरौठा में सोलर पार्क बनाया जा रहा है। 

बारिश के समय समेटे जाएंगे पैनल-

बुंदेलखंड के माताटीला बांध, जामनी बांध और अर्जुन सागर बांध को इसके लिए चुना गया है। माताटीला बांध करीब 8 एकड़ में फैला है। यहां टेहरी हाइड्रो डेवलपमेंट कॉरपोरेशन और टुस्को द्वारा मिलकर सोलर पैनल लगाया जाएगा। नेडा और सिंचाई विभाग इसके लिए सर्वे कर रहे हैं। सिंचाई अफसरों का कहना है कि बांध के ऊपर सोलर पैनल स्थापित करना चुनौती भरा है। बारिश में नदियों का जलस्तर काफी बढ़ जाता है। बांध में भी जलस्तर बढ़ने के साथ वेग भी अधिक हो जाता है। इसको देखते हुए ऐसे पैनल इस्तेमाल में लाए जाएंगे, जिनको बारिश के समय समेटा जा सके। बाकी समय यह बांध के ऊपर तैरती रहें। सिंचाई एवं नेडा अफसर इसके तमाम बिंदुओं के भौतिक सत्यापन में जुटे हैं। इसके बाद डीपीआर तैयार करके यह काम कराया जाएगा।

माताटीला बांध से सौ मेागावाट की बिजली-

सिंचाई अफसरों के मुताबिक इस प्रोजेक्ट के जरिये माताटीला बांध से सौ मेागावाट, जामनी बांध से दस मेगावाट एवं अर्जुन सागर बांध से पचास मेगावाट बिजली उत्पादन का लक्ष्य है। अधीक्षण अभियंता शीलचंद्र उपाध्याय का कहना है कि सर्वे कार्य कराया जा रहा है। इसकी रिपोर्ट तैयार होने के बाद काम कराया जाएगा। सिंचाई विभाग के अफसर ने बताया कि प्रोजेक्ट के जरिए माताटीला बांध से 100 मेगावाट, जामुनी बांध से दस मेगावाट और अर्जुन सागर बांध से पचास मेगावाट बिजली का उत्पादन लक्ष्य है। सर्वे कराया जा रहा है। जल्द ही काम शुरु किया जायेगा।

अन्य ख़बरें

संबंधित खबरें