बड़ी खबरें

उत्तर प्रदेश के 18 बड़े शहरों में शुरू होंगे स्ट्रीट फूड हब-साप्ताहिक हाट, 15 लाख दुकानदारों को फायदा 17 घंटे पहले चमक उठेंगे यूपी के हाइवे, 40 हजार करोड़ से बनेंगी दो हजार नई सड़कें, गांवों पर फोकस 17 घंटे पहले उत्तर प्रदेश में दो साल में प्राकृतिक खेती से जुड़ेंगे 50 हजार किसान, सभी जिलों में शुरू होगी किसान रजिस्ट्री 17 घंटे पहले रेलवे में 7951 पदों पर भर्ती का नोटिफिकेशन जारी, 30 जुलाई से शुरू होंगे आवेदन, 44 हजार से ज्यादा मिलेगी सैलरी 17 घंटे पहले CDAC में प्रोजेक्ट इंजीनियर सहित 135 पदों पर निकली भर्ती, एज लिमिट 50 साल, सैलरी 14 लाख तक 17 घंटे पहले ITBP ने कॉन्स्टेबल के पदों पर निकाली भर्ती, 10वीं पास को मौका, 69 हजार से ज्यादा मिलेगा वेतन 17 घंटे पहले काठमांडू के त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर क्रैश हुआ विमान, प्लेन में सवार 19 में से 18 की मौत 17 घंटे पहले 'बजट में विपक्ष शासित राज्यों के साथ हुआ भेदभाव', INDIA ब्लॉक के सांसदों का विरोध प्रदर्शन 17 घंटे पहले

यूपी में हीटवेव से गई सबसे ज्यादा लोगों की जान, देश में नहीं थम रहा मौतों का सिलसिला

Blog Image

सूर्य की तपिश ने पिछले कुछ दिनो से हाहाकार मचाया हुआ है। इस साल गर्मी का असर बहुत खतरनाक और भयावह रहा। देश के अधिकाशं हिस्से इन दिनों भयंकर गर्मी और हीटवेव और गर्मी की मार झेल रहे हैं जिसके कारण अब तक देश में गर्मी से  लगभग 143 लोगों को अपनी जान गवानी पड़ी।

क्या कहते हैं आंकड़े?

मार्च से लेकर जून तक के आकड़ों के अनुसार 41,789 लोग हीटस्ट्रोक से पीड़ित हुए। हीटवेव से जान गंवाने वाले लोगों की संख्या अभी और बढ़ सकती है क्योंकि गर्मी संबंधी बीमारी और मौतों की सर्विलांस करने वाले नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल ने कई राज्यों के आंकड़ों को अभी तक अपडेट नहीं किया है। 

एक दिन में हुई कई लोगों की मौत

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, 20 जून को ही हीटस्ट्रोक के कारण 14 लोगों की मौत हुई है और नौ अन्य मौतों को लेकर भी आशंका है कि ये हीटस्ट्रोक की वजह से हुई हैं। यह एक दिन में मरने वालों की संख्या काफी ज्यादा है। 

यूपी में गईं सबसे ज्यादा लोगों की जान 

उत्तर प्रदेश सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है, जहां सबसे ज्यादा 35 लोगों की मौत हुई। वहीं दिल्ली में 21, बिहार और राजस्थान में 17-17 लोगों की मौत हीटवेव से हुई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने गर्मी को देखते हुए सभी अस्पतालों को एडवाइजरी जारी की है कि वे हीटवेव से पीड़ित मरीजों के लिए विशेष यूनिट बनाएं। अब स्वास्थ्य मंत्री ने अधिकारियों से अस्पतालों में जाकर इन विशेष यूनिट को चेक करने का निर्देश दिया है। साथ ही हीटवेव से हो रहीं मौतों की समीक्षा करने का भी निर्देश दिया है।

हीटस्ट्रोक के इस प्रकार के हो सकते हैं लक्षण-

देश के कई हिस्सों में इन दिनों 50 डिग्री सेल्सियस के आसपास का तापमान है। तेज तापमान की वजह से शरीर का तापमान भी बढ़ रहा है। ज्यादा देर तक धूप में रहने के चलते हीटस्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। जिन लोगों को ज्यादा गर्मी झेलने की आदत नहीं है, उन्हें हीटस्ट्रोक की समस्या ज्यादा होती है। कुछ लक्षण इस प्रकार है- 

  • हीटस्ट्रोक में शरीर का तापमान 104 डिग्री सेल्सियस तक या कभी इससे भी ज्यादा तक पहुंच सकता है।
  •  हीटस्ट्रोक में मरीज को सिर में तेज दर्द
  •  सांसों का तेज चलना
  •  उल्टी या जी मिचलाना
  •  बोलने में दिक्कत
  • चक्कर आना और कन्फ्यूजन जैसी समस्याएं हो सकती हैं। 

 

अन्य ख़बरें