बड़ी खबरें

उत्तर प्रदेश के 18 बड़े शहरों में शुरू होंगे स्ट्रीट फूड हब-साप्ताहिक हाट, 15 लाख दुकानदारों को फायदा 16 घंटे पहले चमक उठेंगे यूपी के हाइवे, 40 हजार करोड़ से बनेंगी दो हजार नई सड़कें, गांवों पर फोकस 16 घंटे पहले उत्तर प्रदेश में दो साल में प्राकृतिक खेती से जुड़ेंगे 50 हजार किसान, सभी जिलों में शुरू होगी किसान रजिस्ट्री 16 घंटे पहले रेलवे में 7951 पदों पर भर्ती का नोटिफिकेशन जारी, 30 जुलाई से शुरू होंगे आवेदन, 44 हजार से ज्यादा मिलेगी सैलरी 16 घंटे पहले CDAC में प्रोजेक्ट इंजीनियर सहित 135 पदों पर निकली भर्ती, एज लिमिट 50 साल, सैलरी 14 लाख तक 16 घंटे पहले ITBP ने कॉन्स्टेबल के पदों पर निकाली भर्ती, 10वीं पास को मौका, 69 हजार से ज्यादा मिलेगा वेतन 16 घंटे पहले काठमांडू के त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर क्रैश हुआ विमान, प्लेन में सवार 19 में से 18 की मौत 15 घंटे पहले 'बजट में विपक्ष शासित राज्यों के साथ हुआ भेदभाव', INDIA ब्लॉक के सांसदों का विरोध प्रदर्शन 15 घंटे पहले

शादियों में क्या होती है सहालग? जानिए इसकी शुरूआत की रोचक कहानी

बचपन में गुड्डा-गुड़िया और उनकी बारात निकालकर पूरे गांव में घूमना, एक ज़माने में बच्चों का सबसे प्रिय खेल हुआ करता था। इस खेल में छोटी बच्चियां गुड़िया पक्ष और छोटे बच्चे गुड्डे की तरफ से बाराती बनकर निकलते, और इनके विवाह की रस्म को पूरा करते थे। बच्चों का यह खेल भारतवर्ष की संस्कृति में टेसू और झांझी के विवाह की परंपरा से मेल खाता है। विजयादशमी के दिन से शुरू होकर यह शादी का उत्सव केवल पांच दिन ही चलता है और कार्तिक पूर्णिमा को शादी सम्पन्न हो जाने के साथ ही समाप्त हो जाता है, जब टेसू की शादी झांझी से की जाती है। तो आखिर टेसू और झांझी कौन है, शरद पूर्णिमा की रात से इसका क्या कनेक्शन है और इसे लेकर मान्यताएं क्या है, जानने के लिए देखिए खास वीडियो...

अन्य ख़बरें

संबंधित खबरें