बड़ी खबरें

भर्तृहरि महताब बने प्रोटेम स्पीकर, राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ 19 घंटे पहले नीट विवाद में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, दोषियों पर मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग 19 घंटे पहले लखनऊ में UPSRTC मुख्यालय के बाहर मृतक आश्रितों का नौकरी की मांग पर धरना, 'नियुक्ति दो या जहर दे दो' का लिखा स्लोगन 19 घंटे पहले लखनऊ में 33 विभूतियों समेत 66 मेधावी सम्मानित, क्षत्रिय लोक सेवक परिवार ने हल्दीघाटी मनाया विजयोत्सव 19 घंटे पहले वर्ल्ड चैंपियन इंग्लैंड ने टी-20 वर्ल्ड कप में सबसे पहले सेमीफाइनल में बनाई जगह, अमेरिका को एकतरफा मुकाबले में 10 विकेट से हराया 19 घंटे पहले संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट (SGPGI) लखनऊ में 419 वैकेंसी, 25 जून 2024 है लास्ट डेट, 40 वर्ष तक के उम्मीदवारों को मिलेगा मौका 19 घंटे पहले हरियाणा लोक सेवा आयोग (HPSC) ने मेडिकल ऑफिसर के 805 पदों पर निकाली भर्ती, 12 जुलाई 2024 है आवेदन करने की लास्ट डेट 19 घंटे पहले CBSE ने रीजनल डायरेक्टर सहित अन्य पदों पर निकाली भर्ती, एज लिमिट 56 वर्ष, सैलरी 65 हजार से ज्यादा 19 घंटे पहले मोदी ने सांसद पद की ली शपथ, 18वीं लोकसभा का पहला संसद सत्र शुरू 18 घंटे पहले सुप्रीम कोर्ट का केजरीवाल को तत्काल राहत देने से इनकार, 26 जून को होगी अगली सुनवाई 16 घंटे पहले

7 साल में दोगुनी हुई यूपी की अर्थव्यवस्था, वन ट्रिलियन का लक्ष्य

Blog Image

उत्तर प्रदेश की सरकार की नीतियों के चलते 7 सालों में अर्थव्यवस्था डबल हो गई है। सरकार ने वन ट्रिलियन का लक्ष्य निर्धारित किया है। सरकार की नीतियों का ही परिणाम है कि वर्ष 2016-17 के मुकाबले राज्य का सकल घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) दोगुनी होकर  25 लाख करोड़ तक पहुंच गई है। राज्य सरकार ने 2027 तक प्रदेश की अर्थव्यवस्था को वन ट्रिलियन डालर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य रखा है। जिस पर सरकार ने गंभीरता से काम शुरू किया है। 

 2027 नहीं 2030 तक लक्ष्य को पा सकती है सरकार-

अर्थव्यवस्था के जानकारों के मुताबिक एक ट्रिलियन डालर की अर्थव्यवस्था यानि राज्य की जीडीपी करीब 100 लाख करोड़ होनी चाहिए। मौजूदा समय में प्रदेश की जीडीपी करीब 25 लाख करोड़ है, जिसमें चार गुना इजाफा होने पर यह लक्ष्य पाया जा सकेगा। पिछले करीब सात साल में प्रदेश सरकार ने इंफ्रास्ट्रक्चर विकास और निवेश की जिस रणनीति पर काम किया है उससे इसे पाया जा सकता है। करीब 34.5 लाख करोड़ के निवेश प्रस्ताव जिसे  धरातल पर उतारा जाना सुनिश्चित माना जा रहा है। इससे इस प्रयास को बड़ा बल मिलेगा। इस निवेश के साथ ही राज्य की जीएसडीपी करीब 60 लाख करोड़ पहुंच जाएगी। अन्य क्षेत्रों के विकास को जोड़ने के बाद अर्थव्यवस्था में और इजाफा होगा। विशेषज्ञों का मानना है कि सरकार इस लक्ष्य को 2027 तक तो नहीं लेकिन 2030 तक पा लेगी।

देश की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला राज्य-

उत्तर प्रदेश के सकल घरेलू राज्य उत्पाद (जीएसडीपी) की बात करें तो 2016-17 में प्रदेश की जीएसडीपी 12.75 लाख करोड़ रुपये थी, इसकी तुलना में 2024-25 की जीएसडीपी 25 लाख करोड़ रुपये हो चुकी है। इसी के साथ यूपी देश की नंबर दो की अर्थव्यवस्था बन चुका है। 2019-20 में आई वैश्विक महामारी कोविड के बाद प्रदेश निरंतर 14 प्रतिशत की आर्थिक विकास दर से प्रगति कर रहा है। इसमें भी सरकार का पूरा जोर सामाजिक एवं आर्थिक सेक्टर पर है। 

अन्य ख़बरें

संबंधित खबरें