बड़ी खबरें

भर्तृहरि महताब बने प्रोटेम स्पीकर, राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ 21 घंटे पहले नीट विवाद में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, दोषियों पर मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग 21 घंटे पहले लखनऊ में UPSRTC मुख्यालय के बाहर मृतक आश्रितों का नौकरी की मांग पर धरना, 'नियुक्ति दो या जहर दे दो' का लिखा स्लोगन 21 घंटे पहले लखनऊ में 33 विभूतियों समेत 66 मेधावी सम्मानित, क्षत्रिय लोक सेवक परिवार ने हल्दीघाटी मनाया विजयोत्सव 21 घंटे पहले वर्ल्ड चैंपियन इंग्लैंड ने टी-20 वर्ल्ड कप में सबसे पहले सेमीफाइनल में बनाई जगह, अमेरिका को एकतरफा मुकाबले में 10 विकेट से हराया 21 घंटे पहले संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट (SGPGI) लखनऊ में 419 वैकेंसी, 25 जून 2024 है लास्ट डेट, 40 वर्ष तक के उम्मीदवारों को मिलेगा मौका 21 घंटे पहले हरियाणा लोक सेवा आयोग (HPSC) ने मेडिकल ऑफिसर के 805 पदों पर निकाली भर्ती, 12 जुलाई 2024 है आवेदन करने की लास्ट डेट 21 घंटे पहले CBSE ने रीजनल डायरेक्टर सहित अन्य पदों पर निकाली भर्ती, एज लिमिट 56 वर्ष, सैलरी 65 हजार से ज्यादा 21 घंटे पहले मोदी ने सांसद पद की ली शपथ, 18वीं लोकसभा का पहला संसद सत्र शुरू 20 घंटे पहले सुप्रीम कोर्ट का केजरीवाल को तत्काल राहत देने से इनकार, 26 जून को होगी अगली सुनवाई 18 घंटे पहले

नए वित्‍त वर्ष के पहले दिन ही आई खुशखबरी, GST ने भरा सरकारी खजाना

Blog Image

नए वित्‍त वर्ष के पहले दिन आज 1 अप्रैल को एक अच्‍छी खबर सामने आई है। जिसके मुताबिक मार्च, 2023 में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स यानि GST कलेक्शन में सालाना आधार पर 11.5 फीसदी का इजाफा हुआ है। वित्त मंत्रालय के अनुसार, वस्तु व सेवा कर संग्रह मार्च में 1.78 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। मंत्रालय के मुताबिक यह अब तक का दूसरा सबसे बड़ा जीएसटी कलेक्शन है। घरेलू लेनदेन बढ़ने से मार्च में GST संग्रह बढ़ा है।

सर्वाधिक जीएसटी संग्रह-

अबतक का सर्वाधिक GST संग्रह अप्रैल, 2023 में 1.87 लाख करोड़ रुपये दर्ज किया गया। मार्च में संग्रह बढ़ने के साथ समूचे वित्त वर्ष 2023-24 में कुल GST संग्रह 20.14 लाख करोड़ रुपये हो गया है जो वित्त वर्ष 2022-23 की तुलना में 11.7 फीसदी अधिक है।  इस वित्त वर्ष में औसत मासिक GST संग्रह 1.68 लाख करोड़ रुपये रहा, जो एक साल पहले  1.5 लाख करोड़ रुपये से अधिक था। 
वित्त मंत्रालय के मुताबिक ‘मार्च, 2024 के लिए सकल जीएसटी राजस्व में सालाना आधार पर 11.5 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 1.78 लाख करोड़ रुपये का दूसरा सबसे बड़ा संग्रह देखा गया है। घरेलू लेनदेन में 17.6 प्रतिशत की बढ़ोतरी होने से कर संग्रह में यह उछाल दर्ज किया गया है।' मार्च महीने में रिफंड के बाद शुद्ध GST  राजस्व 1.65 लाख करोड़ रुपये रहा, जो एक साल पहले की समान अवधि की तुलना में 18.4 प्रतिशत अधिक है।

ऐसा रहा संग्रह-

केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर (CGST) से सरकार को कुल ₹34,532 करोड़ रुपये मिले हैं। राज्य वस्तु एवं सेवा कर (SGST) से कुल संग्रह ₹43,746 करोड़ संग्रह हुआ। एकीकृत वस्तु एवं सेवा कर (IGST) संग्रह ₹87,947 करोड़ (इसमें आयातित वस्तुओं पर एकत्र ₹40,322 करोड़ शामिल हैं) रहा। इसी तरह सेस से कुल ₹12,259 करोड़ (इसमें आयातित वस्तुओं पर एकत्र ₹996 करोड़ शामिल हैं) मिले।

यूपी से इतने करोड़ GST संग्रह-

राज्यों से भी GST संग्रह में बढ़ोतरी देखने को मिली है। इसमें उत्तर प्रदेश से जहां मार्च 2023 में 7613 करोड़ रुपये का GST संग्रह हुआ था वहीं इसबार इसमें करीब 19 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 9.087 करोड़ रुपये रहा है। 

2017 में लागू हुआ था GST-

आपको बता दें कि GST एक इनडायरेक्ट टैक्स है। इसे वैराइटी ऑफ प्रीवियस इनडायरेक्ट टैक्स (VAT), सर्विस टैक्स, परचेज टैक्स, एक्साइज ड्यूटी और कई इनडायरेक्ट टैक्स को रिप्लेस करने के लिए 2017 में लागू किया गया था।

अन्य ख़बरें

संबंधित खबरें