बड़ी खबरें

भर्तृहरि महताब बने प्रोटेम स्पीकर, राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ 21 घंटे पहले नीट विवाद में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, दोषियों पर मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग 21 घंटे पहले लखनऊ में UPSRTC मुख्यालय के बाहर मृतक आश्रितों का नौकरी की मांग पर धरना, 'नियुक्ति दो या जहर दे दो' का लिखा स्लोगन 21 घंटे पहले लखनऊ में 33 विभूतियों समेत 66 मेधावी सम्मानित, क्षत्रिय लोक सेवक परिवार ने हल्दीघाटी मनाया विजयोत्सव 21 घंटे पहले वर्ल्ड चैंपियन इंग्लैंड ने टी-20 वर्ल्ड कप में सबसे पहले सेमीफाइनल में बनाई जगह, अमेरिका को एकतरफा मुकाबले में 10 विकेट से हराया 21 घंटे पहले संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट (SGPGI) लखनऊ में 419 वैकेंसी, 25 जून 2024 है लास्ट डेट, 40 वर्ष तक के उम्मीदवारों को मिलेगा मौका 21 घंटे पहले हरियाणा लोक सेवा आयोग (HPSC) ने मेडिकल ऑफिसर के 805 पदों पर निकाली भर्ती, 12 जुलाई 2024 है आवेदन करने की लास्ट डेट 21 घंटे पहले CBSE ने रीजनल डायरेक्टर सहित अन्य पदों पर निकाली भर्ती, एज लिमिट 56 वर्ष, सैलरी 65 हजार से ज्यादा 21 घंटे पहले मोदी ने सांसद पद की ली शपथ, 18वीं लोकसभा का पहला संसद सत्र शुरू 20 घंटे पहले सुप्रीम कोर्ट का केजरीवाल को तत्काल राहत देने से इनकार, 26 जून को होगी अगली सुनवाई 18 घंटे पहले

गोंडा

गोंडा जान बस्ती है हमारी इस शहर में यहां सब मिलता हैं,सिवाय नफरत के यहां सीधे-सादे लोगो का है डेरा, खुशहाली से भरा ये गोंडा मेरा हैं। वीरों का बस्ती जवानों का देश, जिला - गोंडा उत्तर प्रदेश। गोंडा जिला की ताकत से पुरा ब्रह्मांड डोलता हैं, ये हम नही हमारा इतिहास बोलता हैं। यहाँ सुबह दुखरन नाथ मंदिर से तो शाम चौक के चूड़ी गली से होकर गुज़रती है खाने के भी लोग यहां बहुत शौक़ीन हैं भरोसा नहीं होता तो कभी आनद का समोसा और दुर्गमा की लस्सी पीकर तो देखिये यहाँ यहां के बतासे और टिक्की में भी बड़ा स्वाद है एक बार खाओ तो बार बार आओ। गोंडा की गलियों का कुछ इतिहास ही पुराना है हमसे पूछो हमने इसे बहुत करीब से जाना है जितनी प्यारी बोली है उतना ही कड़क स्वभाव है अयोध्या के मध्य में स्थित गोनर्द भूमि पर विसेन क्षत्रिय राजा मान सिंह ने 400 साल पहले गोंडा नगर की स्थापना की थी। प्राचीन काल में यह कोसल राज्य और मुगल शासन में अवध सुबाह की बहराइच सरकार के अधीन था। 1856 में ब्रिटिश सरकार के आदेश से अवध शासक के नियंत्रण में आया तो एक विस्तृत भूभाग को बहराइच जिले से अलग करके गोंडा जिला बना दिया गया। तब बलरामपुर का क्षेत्र भी गोंडा का हिस्सा था और इसका विस्तार नेपाल तक था। अंग्रेजी शासन के खिलाफ बिगुल फूंकने वाले विसेन वंश के अंतिम शासक महाराजा देवी बख्श सिंह की शौर्य गाथा आज भी लोगों में देश भक्ति का जज्बा पैदा कर रही है। मान्यता के अनुसार अयोध्या के राजा दशरथ की यहां गायें चरा करती थीं, जिस कारण इसका नाम गोनर्द पड़ा। यही गोनर्द अपभ्रंश होकर गोण्डा बन गया। यहीं पर महात्मा गौतम बुद्द ने करीब 21 साल तक प्रवास किया था। ज्यादा जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें