बड़ी खबरें

उत्तर प्रदेश के 18 बड़े शहरों में शुरू होंगे स्ट्रीट फूड हब-साप्ताहिक हाट, 15 लाख दुकानदारों को फायदा 18 घंटे पहले चमक उठेंगे यूपी के हाइवे, 40 हजार करोड़ से बनेंगी दो हजार नई सड़कें, गांवों पर फोकस 18 घंटे पहले उत्तर प्रदेश में दो साल में प्राकृतिक खेती से जुड़ेंगे 50 हजार किसान, सभी जिलों में शुरू होगी किसान रजिस्ट्री 18 घंटे पहले रेलवे में 7951 पदों पर भर्ती का नोटिफिकेशन जारी, 30 जुलाई से शुरू होंगे आवेदन, 44 हजार से ज्यादा मिलेगी सैलरी 18 घंटे पहले CDAC में प्रोजेक्ट इंजीनियर सहित 135 पदों पर निकली भर्ती, एज लिमिट 50 साल, सैलरी 14 लाख तक 18 घंटे पहले ITBP ने कॉन्स्टेबल के पदों पर निकाली भर्ती, 10वीं पास को मौका, 69 हजार से ज्यादा मिलेगा वेतन 18 घंटे पहले काठमांडू के त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर क्रैश हुआ विमान, प्लेन में सवार 19 में से 18 की मौत 17 घंटे पहले 'बजट में विपक्ष शासित राज्यों के साथ हुआ भेदभाव', INDIA ब्लॉक के सांसदों का विरोध प्रदर्शन 17 घंटे पहले

स्ट्रीट लाइट में होंगे शिव के प्रतीक चिह्न, इंद्रधनुषी रंग में रंगेगा नाथ सर्किट

Blog Image

नाथ नगरी कॉरिडोर को नव्य और भव्य बनाने के लिए बरेली में कवायद जोर-शोर से शुरू हो गई है। यह एक महत्वपूर्ण पहल है, जिसका उद्देश्य शहर को नवीनतम इंफ्रास्ट्रक्चर से सुसज्जित करना है। इस कॉरिडोर के अंतर्गत सात नाथ मंदिरों को एक संयोजक रंग में जोड़ने के योजना के अलावा, व्यावसायिक स्थापत्यों के लिए एकरूपता और डिजाइन के साइन बोर्ड भी लगाए जाएंगे। यह पहल न केवल शहर के संरचनात्मक विकास को बढ़ावा देगी, बल्कि स्थानीय पर्यटन को भी बढ़ावा प्रदान करेगी।

250 करोड़ रुपये से  बनेगा 2.5 किलोमीटर लंबा टूरिज्म सर्किट

कमिश्नर सौम्या अग्रवाल की उपस्थिति में यह पहल तेजी से आगे बढ़ रही है, जो शहर के आकर्षकण को बढ़ाने और स्थानीय व्यापारिक गतिविधियों को बढ़ावा देने में मदद करेगी। इस परियोजना के माध्यम से नाथ नगरी कॉरिडोर को एक नया और भव्य स्वरूप प्राप्त होगा, जो बरेली के स्थानीय लोगों के लिए गर्व का विषय बनेगा। उन्होंने सभी विभागों को सप्लीमेंट्री डीपीआर शासन को भेजने के लिए निर्देशित किया है। पर्यटन विभाग को कार्यदाई संस्था का चयन कर काम शुरू करवाने के निर्देश दिए गए हैं। 250 करोड़ रुपये से नाथ मंदिरों को जोड़ते हुए 32.5 किलोमीटर लंबा टूरिज्म सर्किट बनाया जाएगा। इसको लेकर शासन ने पहली किस्त के रूप में 25 करोड़ रुपये जारी कर दिए हैं।

बिल्डिंगों को एक ही रंग में रंगा जाएगा

सड़कों पर स्थित स्ट्रीट लाइटों में शिव के प्रतीक चिह्न लगाए जाएंगे, जो सातों नाथ मंदिरों को जोड़ने वाले सर्किट का हिस्सा होंगे। इन चिह्नों में सातों सर्किटों की पहचान के लिए डमरू, त्रिशूल, त्रिपुर, और नंदी भी सम्मिलित होंगे। साथ ही, वर्तमान और भविष्य में निर्माण होने वाली सड़कों पर नाथ मंदिरों के संयोजन को ध्यान में रखते हुए कंट्रोल्ड एलिवेशन कराया जाएगा। इससे सातों सर्किटों की एकरूपता बढ़ाने के लिए, जो एक मंदिर से दूसरे नाथ मंदिर तक जाते हैं, बिल्डिंगों को एक ही रंग में रंगा जाएगा।

चौराहों पर फोकस वॉल का निर्माण

शिव के विभिन्न स्वरूपों का चित्रण फोकस वाल पर होगा। नाथ नगरी के प्रमुख स्थानों और चौराहों पर फोकस वॉल का निर्माण किया जाएगा, ताकि युवा पीढ़ी को शहर की सांस्कृतिक विरासत और उसके आध्यात्मिक महत्व की समझ हो सके। इस फोकस वाल में शिव के विभिन्न स्वरूपों को दर्शाया जाएगा, जिससे नाथ नगरी की रमणीयता और धार्मिक महत्व प्रकट हो। इस प्रकल्प की तैयारी अब प्रारंभ हो चुकी है।

सरकार ने रिलीज किया 24 करोड़ रुपये का बजट

 नाथनगरी कॉरिडोर के विकास के लिए सरकार ने 24 करोड़ रुपये का बजट रिलीज किया है। इस कॉरिडोर का उद्देश्य नाथ के पर्यटन सर्किट को बढ़ावा देना है, और इसमें शिव के विभिन्न स्वरूपों की स्थापना भी की जाएगी। इस विकास कार्य में शहर के प्रमुख चौराहों का विकास भी शामिल होगा।

अन्य ख़बरें

संबंधित खबरें