बड़ी खबरें

लोकतंत्र के उत्सव में मतदाताओं ने दिखाया उत्साह, पहले चरण में 68.29 फीसदी हुआ मतदान 18 घंटे पहले राममंदिर में आज से फिर शुरू हो जाएंगे वीआईपी दर्शन, विशिष्ट और आरती पास की सुविधा भी हुई बहाल 18 घंटे पहले कुर्की को लेकर इलाहाबाद हाई कोर्ट ने दिया नया फैसला, कहा- 'गैंगस्टर एक्ट में कुर्क नहीं कर सकते कमाई से अर्जित संपत्ति' 18 घंटे पहले यूपी में तीसरे चरण के लिए 182 प्रत्याशियों ने किया नामांकन, तीसरे चरण के चुनाव के लिए 7 मई को होंगे मतदान 18 घंटे पहले इकाना में चेन्नई के खिलाफ लखनऊ ने बनाए कई बड़े रिकॉर्ड्स, राहुल ने महेंद्र सिंह धोनी को बतौर विकेट कीपर सबसे ज्यादा अर्धशतक जड़ने के मामले में छोड़ा पीछे 18 घंटे पहले बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन की तारीख में हुआ बदलाव, अब 30 अप्रैल तक कर सकतें हैं आवेदन 18 घंटे पहले यूपी बोर्ड का 10वीं और 12वीं का रिजल्ट हुआ जारी, लड़कियां रहीं अव्वल 14 घंटे पहले 'कांग्रेस ने डिजिटल भुगतान का उड़ाया मजाक', बेंगलुरु में इंडी गठबंधन पर जमकर बरसे PM Modi 10 घंटे पहले कोटा में गरजे शाह, बोले- राहुल बाबा कान खोलकर सुन लो, चाहोगे तो भी आरक्षण हटाने नहीं देंगे 10 घंटे पहले

लंदन आई की तर्ज पर बनेगा गोरखपुर आई

Blog Image

दुनिया के चौथे सबसे बड़े जायंट व्हील 'लंदन आई' को देखने के लिए हर साल 30 से 35 लाख लोग लंदन पहुंचते हैं। लेकिन अब जल्द ही ऐसा ही नजारा गोरखपुर में भी देखने को मिलेगा। आपको बता दें कि गोरखपुर विकास प्राधिकरण ने "लंदन आई" की तर्ज पर रामगढ़ ताल क्षेत्र में "गोरखपुर आई" स्थापित करने की प्रक्रिया को  तेज कर दिया है। जिससे गोरखपुर में पर्यटन को और बढ़ावा मिल सके।  

ऑनलाइन हुई पहली प्री-बिड मीटिंग-

आपको बता दें कि गोरखपुर आई के लिए कंसल्टेंट चयन करने की प्रक्रिया चल रही है। इस परियोजना को लेकर फ्रांस ब्रिटेन एवं यूएस की कंपनियों ने भी रुचि दिखाई है और इसी कड़ी में जीडीए उपाध्यक्ष आनंद वर्द्धन ने गुरुवार को कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ पहली प्री-बिड मीटिंग ऑनलाइन की। इस दौरान बैठक में फ्रांस की एजिस, ब्रिटेन की अरुप एवं यूनाइटेड स्टेट टेक्सास की सीबीआरई के साथ ही गुरुग्राम की ट्रेक्टेबल इंजीनियरिंग एवं डब्ल्यूपीके के प्रतिनिधि शामिल रहे।  बैठक के दौरान गोरखपुर आई के ब्यास, लागत, जमीन की उपलब्धता आदि के बारे में चर्चा की गई। जीडीए की ओर से इस परियोजना की डिजाइन एवं डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार करने के लिए रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल (आरएफपी) जारी की गई है।

लंदन आई की तरह होगा गोरखपुर आई

वहीं कंसल्टेंसी कंपनी के रूप में इस टेंडर में प्रतिभाग कर रही कंपनी डब्ल्यूपीके के प्रतिनिधि उदय भीमराव पांडेय ने बताया कि उनकी कंपनी ने मुंबई एवं श्रीनगर के टेंडर में प्रतिभाग किया था। बताया कि यदि गोरखपुर आई के लिए विशाल अवलोकन चक्र का व्यास 100 से 150 मीटर रखा जाएगा तो इसको स्थापित करने पर एक हजार से दो हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे। लंदन आई का व्यास 120 मीटर है। इसमें लोगों के बैठने के लिए लगभग 32 कैप्सूल लगे होंगे। एक कैप्सूल में 25 लोग बैठ सकेंगे। 45 मिनट से एक घंटे में यह चक्र एक चक्कर लगाएगा। इसकी गति अत्यंत धीमी होगी, जिससे लोग पूरे शहर का नजारा ले सकेंगे। कंसल्टेंट का कहना है कि डीपीआर बनाने में छह महीने, जबकि अवलोकन चक्र बनाने में तीन साल लग सकते हैं।

क्या है लंदन आई- 

इसी के साथ आपको बता दें कि "कैंटिलीवर आब्जर्वेशन व्हील" लंदन में टेम्स नदी के साउथ बैंक पर स्थित है। यह 135 मीटर ऊंचा है, इसे "लंदन आई" भी कहा जाता है। लंदन आई का निर्माण 1998 और 1999 के बीच हुआ था। जिसको देखने के लिए हर साल लाखों लोग UK जाते हैं और इससे UK सरकार हर साल करीब 600 करोड़ रुपये कमाती है। ऐसे में गोरखपुर के रामगढ़ ताल में गोरखपुर आई का निर्माण होने से गोरखपुर में पर्यटन उद्योग को बढ़ावा मिलेगा और पर्यटकों की संख्या में भी वृद्धि होगी। साथ ही इससे देश-विदेश से पर्यटक गोरखपुर आने के लिए प्रेरित होंगे। जिससे रोजगार के भी अवसर बढ़ेंगे।

अन्य ख़बरें

संबंधित खबरें