बड़ी खबरें

भर्तृहरि महताब बने प्रोटेम स्पीकर, राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ 21 घंटे पहले नीट विवाद में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, दोषियों पर मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग 21 घंटे पहले लखनऊ में UPSRTC मुख्यालय के बाहर मृतक आश्रितों का नौकरी की मांग पर धरना, 'नियुक्ति दो या जहर दे दो' का लिखा स्लोगन 21 घंटे पहले लखनऊ में 33 विभूतियों समेत 66 मेधावी सम्मानित, क्षत्रिय लोक सेवक परिवार ने हल्दीघाटी मनाया विजयोत्सव 21 घंटे पहले वर्ल्ड चैंपियन इंग्लैंड ने टी-20 वर्ल्ड कप में सबसे पहले सेमीफाइनल में बनाई जगह, अमेरिका को एकतरफा मुकाबले में 10 विकेट से हराया 21 घंटे पहले संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट (SGPGI) लखनऊ में 419 वैकेंसी, 25 जून 2024 है लास्ट डेट, 40 वर्ष तक के उम्मीदवारों को मिलेगा मौका 21 घंटे पहले हरियाणा लोक सेवा आयोग (HPSC) ने मेडिकल ऑफिसर के 805 पदों पर निकाली भर्ती, 12 जुलाई 2024 है आवेदन करने की लास्ट डेट 21 घंटे पहले CBSE ने रीजनल डायरेक्टर सहित अन्य पदों पर निकाली भर्ती, एज लिमिट 56 वर्ष, सैलरी 65 हजार से ज्यादा 21 घंटे पहले मोदी ने सांसद पद की ली शपथ, 18वीं लोकसभा का पहला संसद सत्र शुरू 20 घंटे पहले सुप्रीम कोर्ट का केजरीवाल को तत्काल राहत देने से इनकार, 26 जून को होगी अगली सुनवाई 18 घंटे पहले

न्यायमूर्ति मनोज कुमार गुप्ता को इलाहाबाद हाईकोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश का सौंपा गया दायित्व

Blog Image

राष्ट्रपति ने आज न्यायमूर्ति मनोज कुमार गुप्ता को इलाहाबाद उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश का दायित्व सौंपा है। वह 21 नवंबर को वर्तमान मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति प्रीतिंकर दिवाकर की सेवानिवृत होने के बाद 22 नवंबर को अपने नए दायित्व को संभालनें के लिए शपथ लेगें। 

मुख्य न्यायमूर्ति प्रीतिंकर दिवाकर के 21 नवंबर होंगे रिटायर-

आपको बता दे कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के वर्तमान मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति प्रीतिंकर दिवाकर की कल सेवानिवृत्ति को ध्यान में रखते हुए, आज भारत सरकार के विशेष सचिव राजेंद्र कश्यप की ओर से इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी गई है। इस अधिसूचना में उन्हें यह दायित्व मुख्य न्यायमूर्ति प्रीतिंकर दिवाकर के 21 नवंबर के सेवानिवृत होने की वजह से सौंपा गया है।

इससे पहले न्यायमूर्ति मनोज कुमार गुप्ता को 12 अप्रैल, 2013 को अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया और 10 अप्रैल, 2015 को स्थायी न्यायाधीश के रूप में शपथ ली। वहीं न्यायमूर्ति प्रीतिंकर दिवाकर को 03 अक्टूबर, 2018 को इलाहाबाद हाईकोर्ट में स्थानांतरित कर दिया गया और 13 फरवरी, 2023 से कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया। उन्होंने 26 मार्च, 2023 को इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली।

वर्तमान में 92 न्यायाधीश हैं-

इसी के साथ आपको बता दे कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय मूल रूप से ब्रिटिश राज में भारतीय उच्च न्यायालय अधिनियम 1861 के अन्तर्गत आगरा में 17 मार्च 1866 को स्थापित किया गया था। लेकिन बाद में इसे सन् 1869 में आगरा से इलाहाबाद स्थानान्तरित कर दिया गया इसके बाद 160 जजों की स्वीकृत संख्या वाले इलाहाबाद हाईकोर्ट में वर्तमान में 92 न्यायाधीश हैं।

अन्य ख़बरें

संबंधित खबरें