बड़ी खबरें

उत्तर प्रदेश के 18 बड़े शहरों में शुरू होंगे स्ट्रीट फूड हब-साप्ताहिक हाट, 15 लाख दुकानदारों को फायदा 17 घंटे पहले चमक उठेंगे यूपी के हाइवे, 40 हजार करोड़ से बनेंगी दो हजार नई सड़कें, गांवों पर फोकस 17 घंटे पहले उत्तर प्रदेश में दो साल में प्राकृतिक खेती से जुड़ेंगे 50 हजार किसान, सभी जिलों में शुरू होगी किसान रजिस्ट्री 17 घंटे पहले रेलवे में 7951 पदों पर भर्ती का नोटिफिकेशन जारी, 30 जुलाई से शुरू होंगे आवेदन, 44 हजार से ज्यादा मिलेगी सैलरी 17 घंटे पहले CDAC में प्रोजेक्ट इंजीनियर सहित 135 पदों पर निकली भर्ती, एज लिमिट 50 साल, सैलरी 14 लाख तक 17 घंटे पहले ITBP ने कॉन्स्टेबल के पदों पर निकाली भर्ती, 10वीं पास को मौका, 69 हजार से ज्यादा मिलेगा वेतन 17 घंटे पहले काठमांडू के त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर क्रैश हुआ विमान, प्लेन में सवार 19 में से 18 की मौत 17 घंटे पहले 'बजट में विपक्ष शासित राज्यों के साथ हुआ भेदभाव', INDIA ब्लॉक के सांसदों का विरोध प्रदर्शन 17 घंटे पहले

उत्तर प्रदेश- मुख्यमंत्री फेलोशिप योजना

Blog Image

उत्तर प्रदेश सरकार ने नगर निकायों के बेहतर विकास के लिए मुख्यमंत्री फेलोशिप योजना लेकर आई है। इसके तहत शोधार्थी अधिकारीयों के निगरानी में  काम की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के अलावा योजनाओं के कार्यान्वयन में तेजी लाएंगे। सरकार की मंशा के अनुरूप राज्य के विकास में प्रतिभाशाली युवाओं को शामिल करने के प्रयास में अब 100 महत्वाकांक्षी नगर निकायों में मुख्यमंत्री फेलोशिप योजना शुरू की जा रही है। आपको इस योजना से जुड़े तमाम बातों की जानकारी देंगे। 

आकांक्षी ब्लॉकों में सीएम फेलोशिप योजना लागू

यूपी सरकार ने 100 आकांक्षी ब्लॉकों में सीएम फेलोशिप योजना लागू की है। आकांक्षी का मतलब आप ये समझ सकते है कि यह एक विकास के लिए किया गया पहल है। जिसका उद्देश्य उन क्षेत्रों के प्रदर्शन में सुधार करना है जो विभिन्न विकास मानकों पर पिछड़ रहे हैं।  योजना के माध्यम से शोधार्थी विद्यार्थी को 30000 रूपये प्रतिमाह फेलोशिप दी जाएगी। इसके अलावा शोध कार्य हेतु भ्रमण के लिए 10000 रूपये प्रतिमाह और कार्यों के मूल्यांकन हेतु टेबलेट के लिए एक बार 15000 रूपये दिए जायेंगे। इस योजना के लिए जिस छात्र का चयन होगा, उसे उनके विकासखंड में ही आवासीय हॉस्टल की सुविधा सरकार द्वारा उपलब्ध करवाई जाएगी।

सरकार का इस बात पर जोर है कि युवाओं की ऊर्जा, तकनीकी कौशल और नई सोच का लाभ महत्वाकांक्षी नगरीय निकायों को भी मिले। वही अगर हम इस योजना के पात्रता और चयन प्रक्रिया कि बात करे तो शोधार्थी के स्नातक में न्यूनतम 60% अंक होने चाहिए, अथवा स्नातकोत्तर या पीएचडी धारक होना चाहिए। इस योजना के लिए आवेदन करने वाले आवेदक को कम्प्यूटर का बेसिक जानकारी होना आवश्यक है। वही आवेदक की आयु 40 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। इसके लिए उत्तर प्रदेश का निवासी होना अनिवार्य है।

 
फेलोशिप आवेदन करने के लिए आप इसके आधिकारिक वेबसाइट http://cmfellowship.upsdc.gov.in/ पर जा सकते है। यहां पर आपको पूरी जानकारी मिल जाएगी। सरकार ऐसे शोधार्थियों को वरीयता देगी जो दो-तीन वर्ष का अनुभव प्राप्त कर सरकारी सेवा में आना चाहते है। सांस्कृतिक विरासत, पर्यटन, डेटा गवर्नेंस विमोचित अनुसंधान के क्षेत्र, बैंकिंग, एआई, बायोटेक, एमएल, वित्त एवं राजस्व,सार्वजनिक नीति, कृषि, ग्रामीण विकास, पंचायती राज,पर्यावरण और जलवायु आदि विभागों में अंतिम रूप से चयनित युवा काम करेंगे।

अन्य ख़बरें

संबंधित खबरें