बड़ी खबरें

लोकतंत्र के उत्सव में मतदाताओं ने दिखाया उत्साह, पहले चरण में 68.29 फीसदी हुआ मतदान 18 घंटे पहले राममंदिर में आज से फिर शुरू हो जाएंगे वीआईपी दर्शन, विशिष्ट और आरती पास की सुविधा भी हुई बहाल 18 घंटे पहले कुर्की को लेकर इलाहाबाद हाई कोर्ट ने दिया नया फैसला, कहा- 'गैंगस्टर एक्ट में कुर्क नहीं कर सकते कमाई से अर्जित संपत्ति' 18 घंटे पहले यूपी में तीसरे चरण के लिए 182 प्रत्याशियों ने किया नामांकन, तीसरे चरण के चुनाव के लिए 7 मई को होंगे मतदान 18 घंटे पहले इकाना में चेन्नई के खिलाफ लखनऊ ने बनाए कई बड़े रिकॉर्ड्स, राहुल ने महेंद्र सिंह धोनी को बतौर विकेट कीपर सबसे ज्यादा अर्धशतक जड़ने के मामले में छोड़ा पीछे 18 घंटे पहले बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन की तारीख में हुआ बदलाव, अब 30 अप्रैल तक कर सकतें हैं आवेदन 18 घंटे पहले यूपी बोर्ड का 10वीं और 12वीं का रिजल्ट हुआ जारी, लड़कियां रहीं अव्वल 15 घंटे पहले 'कांग्रेस ने डिजिटल भुगतान का उड़ाया मजाक', बेंगलुरु में इंडी गठबंधन पर जमकर बरसे PM Modi 10 घंटे पहले कोटा में गरजे शाह, बोले- राहुल बाबा कान खोलकर सुन लो, चाहोगे तो भी आरक्षण हटाने नहीं देंगे 10 घंटे पहले

शाहनजफ़ः जहाँ 600 से ज्यादा वीरों ने दी थी कुर्बानी

इमामबाड़ों के शहर कहे जाने वाले लखनऊ के सबसे खूबसूरत इमामबाड़ों में से एक है- शाहनजफ इमामबाड़ा। नवाब गाजीउद्दीन हैदर की 1818 में बनवायी हुई यह इमारत ईराक के हजरत अली के मकबरे की प्रतिमूर्ति भी है। गुंबद और दो खूबसूरत बड़े भव्य गेट वाली यह इमारत, इमामबाड़ा होने के साथ-साथ गाजीउद्दीन हैदर का मकबरा भी है। जिसमें गाजीउद्दीन हैदर के साथ-साथ उनकी बेगम मुबारक महल और दो अन्य बेगमों की भी मज़ारें हैं। अपनी सुंदरता और नवाबों के इतिहास से जुड़ा यह खूबसूरत इमामबाड़ा जंग-ए-आज़ादी का भी गवाह रहा है। 16 नवंबर 1857 की जंग में भारतीय वीरों ने शाहनजफ को लखनऊ पर हुए हमले के प्रतिरोध का केंद्र बनाया। जहाँ हर धर्म के लोगों ने कंधे से कंधा मिलाकर आज़ादी का बिगुल बजाया।

अन्य ख़बरें

संबंधित खबरें