बड़ी खबरें

भर्तृहरि महताब बने प्रोटेम स्पीकर, राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ 21 घंटे पहले नीट विवाद में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, दोषियों पर मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग 21 घंटे पहले लखनऊ में UPSRTC मुख्यालय के बाहर मृतक आश्रितों का नौकरी की मांग पर धरना, 'नियुक्ति दो या जहर दे दो' का लिखा स्लोगन 21 घंटे पहले लखनऊ में 33 विभूतियों समेत 66 मेधावी सम्मानित, क्षत्रिय लोक सेवक परिवार ने हल्दीघाटी मनाया विजयोत्सव 21 घंटे पहले वर्ल्ड चैंपियन इंग्लैंड ने टी-20 वर्ल्ड कप में सबसे पहले सेमीफाइनल में बनाई जगह, अमेरिका को एकतरफा मुकाबले में 10 विकेट से हराया 21 घंटे पहले संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट (SGPGI) लखनऊ में 419 वैकेंसी, 25 जून 2024 है लास्ट डेट, 40 वर्ष तक के उम्मीदवारों को मिलेगा मौका 21 घंटे पहले हरियाणा लोक सेवा आयोग (HPSC) ने मेडिकल ऑफिसर के 805 पदों पर निकाली भर्ती, 12 जुलाई 2024 है आवेदन करने की लास्ट डेट 21 घंटे पहले CBSE ने रीजनल डायरेक्टर सहित अन्य पदों पर निकाली भर्ती, एज लिमिट 56 वर्ष, सैलरी 65 हजार से ज्यादा 21 घंटे पहले मोदी ने सांसद पद की ली शपथ, 18वीं लोकसभा का पहला संसद सत्र शुरू 20 घंटे पहले सुप्रीम कोर्ट का केजरीवाल को तत्काल राहत देने से इनकार, 26 जून को होगी अगली सुनवाई 18 घंटे पहले

पीलीभीत

किसी चीज की लत तो आम बात हैं, पर नशा जब किसी जिला का लगे तो समझ लेना वो पीलीभीत हैं। कुछ ऐसा ही हमारे साथ भी हुआ यहां का सुकून, प्रकिर्तिक सुंदरता मानो हमें यहीं रह जाने पर मजबूर कर रही थी, पर निकलना तो था ही। कभी सोचा इसका नाम पीलीभीत क्यों पड़ा “पीली+भीत” यहाँ कि स्थानीय भाषा में “भीत” का अर्थ होता है-“मिट्टी का दीवार”. कहा जाता है कि पहले यह जिला पीली मिट्टी के दीवार से चारों तरफ से घिरा हुआ था, इसी कारण जिले का नाम पीलीभीत पड़ा. पीलीभीत टाइगर रिजर्व और बांसुरी निर्माण के लिए प्रसिद्ध है. भारत में निर्माण किए जाने वाले 95% बांसुरी का निर्माण पीलीभीत जिले में किया जाता है, इसीलिए इसे “बांसुरी नगरी” भी कहा जाता है. पूरी जानकारी के लिए कृपया हमारी वीडियो को पूरा जरूर देखे।